हाजी अलीम प्रकरण: हत्या का राजफाश बना चुनौती, आधा दर्जन लोगों को जारी किए नोटिस


हाजी अलीम प्रकरण: हत्या का राजफाश बना चुनौती, आधा दर्जन लोगों को जारी किए नोटिस

जनपद बुलन्दशहर, बसपा के पूर्व विधायक हाजी अलीम की हत्या का राजफाश होना सीबीसीआइडी के लिए भी धीरे-धीरे चुनौती बनता जा रहा है। एक करीबी के विरुद्ध सुबूत जुटाने के लिए एजेंसी ने फि र से सात-आठ लोगों को नोटिस जारी किए हैं। इन सभी लोगों को एजेंसी ने बयानों के लिए मेरठ बुलाया है। जिन लोगों को नोटिस जारी हुए हैं। जल्द ही उन्हें नोटिस मिल जाएंगे। बता दें कि सीबीसीआइडी इस प्रकरण में विवेचक समेत करीब 24 लोगों को नोटिस जारी करके बयान दर्ज कर चुकी है। अवगत करा दें कि 9 अक्टूबर 2018 को पूर्व विधायक हाजी अलीम की गोली लगने से संदिग्ध हालत में उनके ही कमरे में मौत हो गई थी। इस मामले में हाजी अलीम के भाई व सदर ब्लॉक प्रमुख हाजी युनुस ने अज्ञात के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था। इस मुकदमे में शहर कोतवाली के विवेचक ने फोरेंसिक जांच रिपोर्ट के आधार पर आत्महत्या मानकर एफआर लगा दी थी। इसके बाद हाजी अलीम का बेटा अनस हाईकोर्ट में पहुंचा और उसने सीबीआई जांच की मांग की। सीबीआई जांच तो नहीं हुई लेकिन जांच सीबीसीआईडी को चली गई। चार दिन पहले एजेंसी ने हाजी अलीम के पुराने नौकर साजिद को अवैध पिस्टल रखने के आरोप में जेल भेजा था। सूत्रों का कहना है कि सीबीसीआईडी की जांच में एक करीबी का नाम प्रकाश में आ रहा है। इस करीबी का साथ देने में पांच नाम और सामने आ रहे हैं। अनुमान है कि वर्तमान में जिन लोगों को बयानों के लिए नोटिस जारी हुए हैं। यह बयान होने के बाद ही राजफाश हो सकता है। -यह ये था घटनाक्रम 9 अक्टूबर 2018 की रात पूर्व विधायक अपने बैडरूम में सोए थे। 10 अक्टूबर की सुबह उनका गोलियों से छलनी शव मिला। पुलिस जांच में सामने आया कि एक गोली कनपटी पर लगी हुई थी और दूसरी गोली दीवार में लगी थी।

You might also like!

Leave a Comment

Ads
Ads
Ads