चौढ़ेरा मांं विचित्रा देवी का मेला न लगने पर श्रद्धालुओं में रोष व्याप्त


चौढ़ेरा मांं विचित्रा देवी का मेला न लगने पर श्रद्धालुओं में रोष व्याप्त

उजाला हितैषी ब्यूरो, बुलंदशहर/छतारी। थाना छतारी अंतर्गत ग्राम चौढ़ेरा में मां विचित्रा देवी मंदिर पर नवरात्रि के अवसर पर लगने वाला 15 दिवसीय लक्खी मेला कोविड-19 के चलते उप जिला अधिकारी शिकारपुर वेद प्रिय आर्य ने लगने से रोका तीर्थयात्रियों में भारी रोष। थाना छतारी की पंड्रावल चौकी क्षेत्र में आने वाले ग्राम चौढ़ेरा में बने मां विचित्रा देवी चामुंडा मंदिर पर प्रतिवर्ष नवरात्रि के मौके पर 15 दिवसीय लक्खी मेला जिला पंचायत ग्राम पंचायत एवं मंदिर समिति के सहयोग से लगाया जाता है मेले में गैर जनपद गैर प्रांतों से हजारों की संख्या में तीर्थयात्री प्रतिदिन आकर पूजा अर्चना के लिए मां चामुंडा के मंदिर पर दर्शन के लिए आते जाते हैं। बताया जाता है कि तीर्थयात्री नगरकोट यात्रा की समाप्ति चौढ़ेरा आकर मां चामुंडा के दर्शन करके पूर्ण करते हैं। वहीं मंदिर समिति के लोग तथा ग्राम प्रधान एवं जिला पंचायत अपना पूरा सहयोग देते हुए मेले की व्यवस्था बनाते हैं मेले में आने वाली भीड़-भाड़ को लेकर समिति के लोगों ने उप जिलाधिकारी शिकारपुर वेद प्रिय आर्य से मेला लगाने की अनुमति मांगी थी उप जिला अधिकारी शिकारपुर ने कोविड-19 का पालन करते हुए मेला लगाने तथा व्यवस्था पूर्ण करने को कहा जिस पर मंदिर समिति तथा ग्राम प्रधान ने असहमति व्यक्त की तब उप जिलाधिकारी ने मेला लगाने से मना कर दिया। उप जिलाधिकारी शिकारपुर के आदेश पर तहसीलदार शिकारपुर नीरज कुमार द्विवेदी के नेतृत्व में राजस्व विभाग की टीम ने चौढ़ेरा ग्राम पहुंचकर मंदिर परिसर का जायजा लिया तथा व्यवस्थाओं को परखा तहसीलदार ने मंदिर परिसर से भीड़-भाड़ ना होने देने की मंदिर समिति व ग्राम प्रधान को सख्त हिदायत दी। वहीं ग्राम की तरफ आने वाले सभी रास्तों पर बैरिकेडिंग कर मेला न लगने के होर्डिंग लगाकर पुलिस बल लगाने की बात भी कही नवरात्र का प्रथम दिन होने के कारण पहुंची भीड़-भाड़ को रोकने के सभी प्रयास किए गए जिससे श्रद्धालुओं में भारी रोष देखने को मिला।

You might also like!

Leave a Comment

Ads
Ads
Ads