देश

post author#Deepak_sharma_Hapur_9953840820 27 September 2021, 06:44:00 AM

#Hapur_ujala_hiteshi_express_हिंदी के सम्मान में,पूरा हिंदुस्तान-डॉ.सागर


#Hapur_ujala_hiteshi_express_हिंदी के सम्मान में,पूरा हिंदुस्तान-डॉ.सागर

जनपद हापुड़ - #ujala_hiteshi_expresss_हिंदी दिवस के आखिरी पखवाड़े के उपलक्ष्य में शहर के मशहूर आर.के. प्लाजा में साहित्यिक संस्था हिंदी साहित्य परिषद के बैनर तले एक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में डॉ.अशोक मैत्रेय ने पढ़ा... रिश्ते घायल हो रहे,टूट रहे अनुबंध।संवादों की सुई से,रफू करें संबंध।।,कवि प्रेम निर्मल ने पढ़ा.. लाख करे साजिश कोई, कितने करें बवाल। निर्मल झूक सकता नहीं, मां हिन्दी का भाल।।, डॉ.अनिल बाजपई ने कहा कि... मां कान्हा की बांसुरी,से निकला संगीत। मां ओम है व्योम है, अनिल वहीं गीत।। जनकवि, बेखौफ शायर ने हिंदी के सम्मान में कुछ यूं पढ़ा कि... हिंदी के सम्मान में,पूरा हिंदुस्तान। हिंदी में बातें करो, बढ़ जाए सम्मान।। शायरा शहवार ने कुछ यूं पढ़ा...बनाकर एटोमी तलवार, क्या समझते हो।मिटाकर दुनिया को खुऐ क्या समझते हो।। युवा कवि विकास विजय सिंह त्यागी ने पढ़ा कि... मुझे याद आते हैं,वो दिन तो गर्दन शर्म से झूक जाती है। इससे पहले कि मैं कुछ बोलूं,मेरी जवान रूक जाती है।।,कवि महावीर वर्मा ने कहा कि...मानव की दो नैमते, वाणी और मुस्कान।इनका सदुपयोग ही,मानव की पहचान।। काव्य गोष्ठी में वरिष्ठ कवियत्री डॉ. पुष्पा गर्ग, महेश वर्मा,उमेश शर्मा, अभयराज ने भी अपनी रचनाओं से शमां बांध दिया। गोष्ठी का मंच संचालन मशहूर कवि डॉ. अनिल बाजपाई ने किया और अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार डॉ.अशोक मैत्रेय ने की गोष्ठी का समापन वरिष्ठ कवि प्रेम निर्मल जी ने करते हुए कहा कि... हमें अपनी मातृभाषा हिंदी पर गर्व होना चाहिए और इसका सम्मान करना चाहिए।

You might also like!

Leave a Comment

Ads
Ads
Ads