श्रम एवं रोजगार मंत्रालय सरकार द्वारा ई-श्रम पोर्टल का किया गया है निर्माण मुख्य विकास अधिकारी


श्रम एवं रोजगार मंत्रालय सरकार द्वारा ई-श्रम पोर्टल का किया गया है निर्माण मुख्य विकास अधिकारी

हापुड़:→ मंगलवार को मुख्य विकास अधिकारी उदय सिंह कलेक्ट्रेट सभागार में उत्तर प्रदेश राज्य सामाजिक सुरक्षा बोर्ड की बैठक कर रहे थे l बैठक में सहायक श्रमआयुक्त ने मुख्य विकास अधिकारी को अवगत कराया कि ई -श्रम पोर्टल पर पंजीकृत होने के बाद सभी श्रमिकों को 12 अंकों का एक यूनिक नंबर जिसे ई-श्रम कार्ड नंबर कहां जाएगा प्रदान किया जाएगा l जो पूरे भारत में मान्य रहेगा l कार्ड बन जाने के बाद मजदूरों को उनके कार्य और कुशलता के आधार पर बांट दिया जाएगा l ताकि उन्हें सरकार आसानी से रोजगार प्रदान कर सकें l उन्होंने बताया कि ई-श्रम पोर्टल के तहत पंजीकृत कर्मचारी प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का लाभ 2 लाख रुपए ले सकते हैं l पंजीकरण के बाद उन्हें 1 साल के लिए प्रीमियम का भुगतान माफ कर दिया जाएगा l बैठक में मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि यह डाटाबेस असंगठित श्रमिकों के लिए नीति और कार्यक्रम बनाने में सरकार की सहायता करेगा और अनौपचारिक क्षेत्र से औपचारिक क्षेत्र मैं मजदूरों की आवाजाही और उसके विपरीत उनके व्यवसाय कौशल विकास आदि पर केंद्र सरकार द्वारा नजर रखी जाएगी उसके अनुरूप उन्हें उचित कार्य रोजगार के साधन उपलब्ध कराए जाएंगे l प्रवासी श्रमिक कार्यबल को ट्रैक कर उन्हें अधिक रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे l उन्होंने कहा कि पात्र व्यक्ति आवश्यक अभिलेखों के साथ अपने नजदीक के जन सेवा केंद्र में जाकर स्वयं भी ऑनलाइन पंजीकरण करा सकते हैं l बैठक मे श्रम आयुक्त ने कहा कि इस श्रेणी में धोबी, दर्जी, माली, मोची, नाई, बुनकर कोरी,जुलाहा रिक्शा चालक कामवाली बाई, हाथ ठेला चलाने वाले, फुटकर सब्जी विक्रेता फल और फूल विक्रेता चाय और चाट का ठेला लगाने वाले, कुली, जनरेटर लाइट उठाने वाले, कैटरिंग में काम करने वाले, फेरी लगाने वाले, मोटरसाइकिल मरम्मत करने वाले, गैराज कर्मकार परिवहन में लगे कर्मकार ऑटो चालक सफाई कामगार, ढोल बाजा बजाने वाले, टेंट हाउस में कार्य करने वाले, मछुआरे, तांगे में बैल गाड़ी चलाने वाले, अगरबत्ती कुटीर उद्योग बनाने वाले, कर्मकार गाड़ी वान घरेलू उद्योग में लगे मजदूर भड़भुजे पशु पालक मत्स्य पालक मुर्गी बत्तख पालक दुकानों में काम करने वाले, ऐसे मजदूर जो ईपीएफ ईएसआई से आच्छादित नहीं है खेतिहर कर्मकार चरवाहा, दूध दुहने वाले, नाव चलाने वाले, रसोईया समाचार पत्र बांटने वाले, ठेका मजदूर खड्डी पर कार्य करने वाले, सूट रंगाई कताई ओर दुलाई आदि दरी कंबल जरी जर दोजी चिकन कार्य मीट सोप एवं पोल्ट्री फॉर्म पर कार्य करने वाले, डेरी पर कार्य करने वाले, मजदूर कांच की चूड़ी एवं अन्य कांच उत्पादन में स्वयं रोजगार कार्य करने वाले कर्मकार आएंगे इ श्रम पोर्टल पर पंजीकरण करने के लिए मजदूर को आधार संख्या मोबाइल संख्या बैंक खाता संख्या आईएफएससी कोड सहित होने चाहिए यदि किसी के पास यह सब दस्तावेज नहीं है तो वह पास के सीएससी में जाकर अपना बायोमेट्रिक प्रमाणन के माध्यम से अपना पंजीकरण करा सकता है बैठक में जिला विकास अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, परियोजना अधिकारी डूडा योगराज सिंह गौतम, उपायुक्त उद्योग पंकज निर्माण, exiyan जल निगम, ललित कुमार अध्यक्ष संयुक्त उद्योग व्यापार मंडल, डीसी एसएस जी, जिला कृषि अधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी, अब्दुल कलाम संस्था के प्रतिनिधि दानिश, अपर मुख्य अधिकारी सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे ।

You might also like!

Leave a Comment

Ads
Ads
Ads