कारोबार

post author 29 January 2020, 08:04:00 PM

मऊ जनपद की साङियों को अब इन्टरनेशल पटल पर अपनी पहचान मिलने वाली है


मऊ जनपद की साङियों को अब इन्टरनेशल पटल पर अपनी पहचान मिलने वाली है

मऊ जनपद की साङियों को अब इन्टरनेशल पटल पर अपनी पहचान मिलने वाली है। इससे पहले मऊ की साङी कुछ सूबे में ही अपनी पहचान बना रही थे। लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार की ओडीओपी योजना द्वारा अमेजन से यूपी के समस्त जनपदों के प्रोटक्ट को बेचने के फैसले से अब मऊ की साङी को नयी पहचान मिलेगी। प्रदेश सहित देश और विदेश में मऊ की साङी आनलाईन बिकेगी। जिससे बुनकरों में हर्ष है। साथ ही जिलाप्रसासन ‘वस्त्र उत्पाद’ को ऑनलाइन बिक्री एंव निर्यात, एक्पोर्ट हेतु अमेजन टीम द्वारा प्रशिक्षण एंव रजिस्ट्रेशन सेमीनार का आयोजन कर बुनकरों को जागरुक करने में जुटा हुआ है। जिलाधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में नगर पलिका सभागार में बुनकरों के साथ बैठक किया गया। सेमीनार के दौरान बुनकर अफजाल अहमद अंसारी ने बताया कि हम लोग कङी मेहनत के बाद साङी को तैयार करते है। हमारी साङियों की मांग कुछ प्रदेशों में है। लेकिन इससे बुनकरों की बदहाली दूर नही हो रही है। प्रदेश सरकार ने अमेजन पर साङीयां बेचने का फैसला कर बुनकरों के हित में फैसला लिया है। जिसका हम लोग स्वागत करते है। वहीं जिलाधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी ने बताया कि बुनकर नई ऊँचाइयाँ छू सकें। इसलिए एमेजन पर उत्पादों को आनलाइन बेचने के विकल्प से उत्तर प्रदेश के ग्रामीण शिल्पकारों को बड़ा ग्राहक आधार मिलेगा। उनकों उत्पादों का उचित मूल्य मिलेगा। कम अवधि में ही उनका व्यवसाय बढ़ेगा। एमेजान देश-विदेश के करोड़ों खरीदारों से जोड़ेगा।जिससे भारत की बढ़ती डिजिटल अर्थव्यवस्था का लाभ मिलेगा। एमेजन के साथ अपनी भागीदारी से भारत के विभिन्न लाखों बुनकरों, शिल्पकारों और हथकरघा कर्मियों को डिजिटल काॅमर्स में ला रहा है और तकनीक में समर्थ बनाकर एवं मार्गदर्शन के जरिये आनलाइन यात्रा में उनकी सहायता कर रहा है। अमेजन विश्व का सबसे बड़ा ई-कामर्स मार्केट है। अमेजन बुनकरों को आगे बढ़ाने का एक बेहतर जरिया है।

You might also like!

Leave a Comment

Ads
Ads
Ads